जाने उस प्रसंग के बारे में जब हनुमान जी ने वाल्मीकि से पहले रामकथा लिख दी थी

Know about the incident when Hanuman ji wrote Ram Katha before Valmiki/WorldCreativities

Know about the incident when Hanuman ji wrote Ram Katha before Valmiki/WorldCreativities

@worldcreativities

हम सब यह भलीभांति जानते हैं कि हनुमान जी प्रभु श्रीराम के कितने बड़े भक्त थे। यहाँ तक कि आज भी कभी भक्त की बात आती है तो उसमे भगवान हनुमान का नाम सबसे ऊपर आता हैं। हनुमान जी ने सच्चे मन व पूरी निष्ठाभाव से प्रभु श्रीराम की सेवा की थी व हर संकट में उनका साथ दिया था।

इसी के साथ-साथ हनुमान एक बहुत बड़े विद्वान भी थे जिन्हें सभी शास्त्र व वेद कंठस्थ थे। भगवान हनुमान एक योद्धा होने के साथ-साथ दूरदर्शी सोच रखने वाले व कई अद्भुत शक्तियों में निपुण थे। श्रीराम की सेना में यदि हनुमान को सबसे कुशल सैनिक कहा जाये तो कोई अतिश्योक्ति नही होगी (Who first wrote Ramayana)।

आज हम भगवान श्रीराम के जीवन व उनके द्वारा किये गए कार्यों को महर्षि वाल्मीकि के द्वारा लिखी गयी रामायण व कलियुग में तुलसीदास जी द्वारा लिखी गयी रामचरितमानस के द्वारा जानते हैं किन्तु क्या आपको यह ज्ञात हैं कि वाल्मीकि जी से पहले ही भगवान हनुमान ने राम जी की कथा को लिख दिया था जिसे हनुमद रामायण (Hanumad Ramayan) के नाम से जाना जाता हैं।

यह रामायण वाल्मीकि जी की रामायण से कही अधिक श्रेष्ठ थी किन्तु आज यह उपलब्ध नही है क्योंकि स्वयं हनुमान जी ने इसे नष्ट कर दिया था। आइये इसके बारे में पूरी कथा जानते हैं (Hanuman Ramayana in Hindi)।

प्रभु श्रीराम का अयोध्या लौटना (Shree Ram ka Ayodhya aana)

14 वर्षों के वनवास व दुष्ट रावण का वध करके प्रभु राम अपने भाई लक्ष्मण, माता सीता, भक्त हनुमान व कुछ अन्य लोगो के साथ वापस अयोध्या लौट आये व वहां का शासन संभाला। चारो ओर प्रभु के वापस आने की खुशी थी व अयोध्या जगमगा रही थी। इसी बीच भगवान राम ने सीता माता का त्याग कर दिया व माता सीता फिर से वनवास के लिए चली गयी।

धीरे-धीरे प्रभु श्रीराम ने अयोध्या में राम राज्य की स्थापना की व धर्म, सत्य व न्याय व्यवस्था को पुनर्स्थापित किया। इसी बीच हनुमान जी ने हिमालय जाकर महादेव की तपस्या करने का सोचा। इसके लिए वे अपने प्रभु श्रीराम से आज्ञा लेकर हिमालय पर्वत चले गए।

जब हनुमान ने लिख दी हिमालय की दीवारों पर रामायण (Hanuman ne likhi pahli Ramayan)

हिमालय पहुंचकर हनुमान जी प्रतिदिन भगवान शिव की उपासना करते किन्तु उनका प्रभु श्रीराम के प्रति प्रेम कम नही हुआ। इसी प्रेम के फलस्वरूप वे प्रतिदिन हिमालय की दीवारों पर अपने नाखूनों से श्रीराम से जुड़े प्रसंग लिखने लगे व इसी तरह उन्होंने पूरी राम कथा हिमालय की दीवारों पर उकेर दी (Hanuman wrote Ramayana on Himalaya)।

इस रामायण में उन्होंने प्रभु श्रीराम से जुड़ा हर एक प्रसंग बहुत ही रोचक तरीके से लिखा व कभी ना नष्ट होने के उद्देश्य से इसे हिमालय की दीवारों पर अपने नाखूनों से उकेरा (When was Ramayana first written)।

जब वाल्मीकि जी अपनी रामायण दिखाने कैलाश जाने लगे (Valmiki saw Hanuman Ramayana)

दूसरी ओर महर्षि वाल्मीकि जी ने राम भक्ति में प्रभु के जीवन पर एक और रामायण की रचना की जो संस्कृत भाषा में थी। महर्षि वाल्मीकि एक महान कवि थे और उन्होंने कई रचनाएँ भी की थी। इसी क्रम में उन्होंने भगवान श्रीराम पर आधारित रामायण को लिखा।

इसके बाद इसे महादेव को दिखाने के उद्देश्य से वे इसे लेकर कैलाश जाने लगे व बीच में वे हिमालय के पर्वतों पर हनुमान जी को मिले। जब उन्होंने भगवान हनुमान जी के द्वारा लिखी गयी रामायण को देखा तो यह देखकर वे आश्चर्यचकित हो गए क्योंकि हनुमान जी की रामायण उनकी रामायण से कही अधिक श्रेष्ठ थी।

उन्हें यह अच्छे से ज्ञात था कि हनुमान प्रभु श्रीराम के कितने बड़े भक्त हैं व उनके जीवन से भलीभांति परिचित है। उन्होंने हनुमान जी के द्वारा लिखी गयी रामायण की खुलकर प्रशंसा की किन्तु साथ में यह भी कहा कि अब लोग उनके द्वारा लिखी गयी रामायण को भूल जायेंगे क्योंकि हनुमान जी की रामायण उनके द्वारा लिखी गयी रामायण से कही अधिक श्रेष्ठ थी।

जब हनुमान जी ने समुंद्र में डुबो दी अपने द्वारा लिखी रामायण

जब हनुमान जी ने वाल्मीकि जी के चेहरे पर आये चिंता के भावों को देखा और उनकी व्यथा को समझा तो उन्होंने सोचा कि वाल्मीकि जी एक महान कवि है व रामभक्त भी। उन्होंने भी रामायण में सब चीजों का उल्लेख किया हैं। तब हनुमान जी ने वाल्मीकि जी को कहा कि उन्होंने यह रामायण विश्व के लिए नहीं अपितु अपने प्रभु राम के लिए लिखी थी।

इतना कहकर हनुमान जी ने उस रामायण लिखे पहाड़ को अपने कंधो पर उठाया और दूर समुंद्र में जाकर उसे डुबो दिया। इस तरह हनुमान जी ने अपने द्वारा लिखी गयी रामायण को श्रीराम को समर्पित करने के उद्देश्य से उसे हमेशा के लिए समुंद्र में डुबो दिया।

हनुमान जी का त्याग देखकर वाल्मीकि ने लिया प्रण

भगवान हनुमान जी का इतना बड़ा त्याग व भक्तिभाव देखकर महर्षि वाल्मीकि अभिभूत हो गए। उन्होंने कहा कि हनुमान की महिमा लिखने के लिए शायद उन्हें एक जन्म और लेना पड़े। इसके बाद उन्होंने प्रण लिया कि वे एक बार और जन्म लेंगे व रामायण का एक नया संस्करण निकालेंगे जो इससे भी ज्यादा श्रेष्ठ होगी व साथ में उसमे हनुमान जी का पूरा व्याख्यान होगा।

इसलिये ही तुलसीदास जी को महर्षि वाल्मीकि का पुनर्जन्म ही माना जाता है जिन्होंने ना केवल रामचरितमानस को आम जन की भाषा में विस्तार से लिखा अपितु हनुमान चालीसा भी लिखी।

Join Facebook Group
फ्री आयुर्वेदिक हेल्थ टिप्स ग्रुप में शामिल होने के लिए click करें……देखते हैं कितने #लोग हैं #देशभक्त है जो इस #ग्रुप को #ज्वाइन करते हैं #join करने के लिए नीचे दिए गए #लिंक पर क्लिक करें और भी बहुत सारी बातो ओर जानकारियों के लिए नीचे तुरंत देखे बहुत ही रोचक जानारियां नीचे दी हुई है
💋💋💋💋💋💋💋💋💕💕💕💕💕💕💕💕🌾🌾🌾🌾🌾🌾🍃🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🕉🕉🕉🕉🕉😍😍😍🌹🌹
https://www.facebook.com/groups/614541922549349/?ref=share
🕉अगर आप 🌄महादेव के सच्चे 💯भक्त हैं तो इस ग्रुप को ज्यादा से ज्यादा💐 लोगों को #शेयर करें और अपने #फ्रेंड्स को #इन्वाइट करे जिससे कि ये ग्रुप #महादेव का सबसे #बड़ा ग्रुप 🌺बन सकें#ज्यादा से ज्यादा शेयर जरुर करे#🙏#JaiMahadev 🕉#jaimahakaal🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉
https://www.facebook.com/groups/765850477600721/?ref=share
🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉
जो लोग relationship में है या होना चाहते है तो इन पेज को लाइक और शेयर जरुर करें 💕💕
https://www.facebook.com/relationshlovezgoals/
https://www.facebook.com/Relationship-love-goals-105353711339414/
https://www.facebook.com/belvojob/
हमारे #धार्मिक और #सांस्कृतिक और #प्राचीन #सस्कृति के लिए फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करे💁👇👇👇
Friends company को ज्वाइन करें और अपने मन पसंद दोस्तो से बात करे 👇👇👇🌸🌼💋
https://www.facebook.com/groups/1523649131190516/?ref=share
Jai Durga maa ऐसे ही धार्मिक और सांस्कृतिक आध्यात्मिक भक्ति और जानकारियों के लिए
नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी दोस्तों को इन्वाइट करें 💐🙏👇👇
https://www.facebook.com/groups/388102899240984/?ref=share
I&S Buildtech Pvt Ltd किसी को कही प्रॉपर्टी खरीदनी और बेचनी हो तो इस ग्रुप को ज्वाइन करें,👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/790189985072308/?ref=share
Best health tips men’s and women’s हैल्थ टिप्स एक्सरसाइज टिप्स फिटनेस
टिप्स वेट लॉस टिप्स ऐसी ही ढेर सारी जानारियां देखने और समझने के लिए इस ग्रुप को ज्वाइन करें 👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/351694099217895/?ref=share
Vedgyan🌲💐🌺🌻🌼🌸🌲🌲🌿🍃🌾🌾🍁🍂🌴🌳🌲🍀🌵🏜️👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/624604661500577/?ref=share
Relationship love goals 💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕👇👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/774627156647519/?ref=share
Belvo jobs groups जिनके पास जॉब नहीं है जॉबलेस हैं उनके लिए ये ग्रुप बेहद एहम है
नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी फ्रेंड्स और दोस्तों को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें 👇👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/694117461150454/?ref=share
Blue diamonds group इस ग्रुप में आपको वीडियो स्टेटस मिलेगा ३० सेकंड का
वह आप what’s app status पर और fb status prr lga skte h #join करने के
लिए नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें👇👇👇👇👇👇👇😍😍💋💋💋
https://www.facebook.com/groups/4326320604105617/?ref=share
Prachin chanakya niti प्राचीन चाणक्य नीति की जानकारियों के लिए नीचे दिए हुए
लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी फ्रेंड्स को इन्वाइट जरूर करें 🌲👇👇👇👇🕉 🕉
https://www.facebook.com/groups/369329114441951/?ref=share
Mujhse Dosti karoge bolo जो लोग अकेले है और बात करना चाहते है
तो ये ग्रुप ज्वाइन करे 👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/780080659505186/?ref=share
Only truly lovers जो सच्चा प्यार करते है अपने लवर को वही ज्वाइन करे 👇👇
https://www.facebook.com/groups/225480217568019/?ref=share
किर्प्या इन सब फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करे और हमारे नई उप्लोडेड हेल्थ टिप्स को पढ़े
और ज्यादा से ज्यादा लोगो को शेयर अवस्य करे धन्यवाद्

help-to-poor-people-in-diwali-4

Donates

donates a small amount of money for helpless and poor peoples

$33.00

8 thoughts on “जाने उस प्रसंग के बारे में जब हनुमान जी ने वाल्मीकि से पहले रामकथा लिख दी थी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s