बार-बार छींक आने पर अपनाएं ये आयुर्वेदिक घरेलू उपाय (Ayurvedic Home Remedies for Sneezing)

Follow these Ayurvedic home remedies for sneezing again and again/WorldCreativities

Follow these Ayurvedic home remedies for sneezing again and again/WorldCreativities

छींक सभी लोगों को आती है। अगर आपको एक या दो छींक आती है तो सामान्य बात मानी जाती है, लेकिन अगर छींक बार-बार आने लगे, या लगातार छींक आने लगे तो यह परेशानी बन जाती है। बार-बार छींक आने से व्यक्ति परेशान एवं चिड़चिड़ा हो जाता है। छींक के कारण कई लोगों को सिर में दर्द भी होने लगता है। अगर आप भी लगातार छींक आने से परेशान हैं तो छींक को रोकने का घरेलू उपचार कर सकते हैं।

आयुर्वेद के अनुसार, छींक आना कई बीमारियों के लक्षण भी हो सकते हैं। छींक द्वारा नाक व गले के अन्दर से दूषित पदार्थ बाहर निकलता है। यह शरीर को एलर्जी से बचाने की स्वभाविक प्रक्रिया है, लेकिन अगर किसी व्यक्ति को बहुत जल्दी-जल्दी छींक आती है तो यह व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी को दर्शाता है। इसलिए आप छींक से जुड़ी सभी जानकारी जान लें, ताकि ऐसी परेशानी आने पर घरेलू उपचार कर अपने आप को स्वस्थ बना सकें।

छींक आना क्या है? (What is Sneezing in Hindi?)

नाक में म्यूकस झिल्ली होती है, जिसके उत्तक और कोशिकाएं बहुत संवेदनशील होते हैं, इसलिए किसी भी प्रकार के बाहरी उत्तेजक वस्तु या तेज गन्ध के सम्पर्क में आने से छींक आती है। जब कोई बाहरी कण जैसे धूल आपकी नाक में घुस जाता है, तो नाक में गुदगुदी होती है, और मस्तिष्क के एक विशेष भाग में सन्देश जाता है। इसके बाद मस्तिष्क मांसपेशियों को बाहरी कण को बाहर निकालने का संदेश देती हैं। इससे छींक आती है। यह कण मुँह और नाक के दरवाजे से तेज रफ्तार से बाहर आते हैं।

छींक आने के कारण (Sneezing Causes)

छींक आने के ये कारण हो सकते हैंः-

  • धूल, धुँआ एवं तेज गन्ध के सम्पर्क में आने से नाक के भीतर की म्यूकस झिल्ली उत्तेजित हो जाती है, इससे छींक आती है।
  • प्रदूषण युक्त वातावरण में रहने से।
  • सर्दी या जुकाम होने पर छींक आती है, क्योंकि सर्दी-जुकाम होने पर नाक के अन्दर की म्यूकस झिल्ली में सूजन आ जाती है।
  • एलर्जी से ग्रस्त रोगियों में पराग कणों के सम्पर्क में आने की वजह से।
  • किसी दवा के रिएक्शन के कारण छींक की समस्या हो सकती है।

छींक की समस्या के लक्षण (Sneezing Symptoms)

जब ऐसी अवस्था हो जाए तो छींक को बीमारी मान लेना चाहिएः-

  • आँखों का लाल होना।
  • नाक से लगातार पानी बहना।
  • नाक में खुजली होना।
  • सिर में दर्द एवं भारीपन
  • चिड़चिड़ापन
  • सूंघने की शक्ति का कम हो जाना।

छींक की परेशानी के लिए घरेलू उपचार (Home Remedies for Sneezing in Hindi)

आप इन उपायों से छींक की समस्या से निजात (sneezing remedy)पा सकते हैंः-

अदरक बार-बार छींक आने का इलाज में फायदेमंद (Ginger: Home Remedies to Stop Sneezing in Hindi)

एक चम्मच अदरक का रस लें। इसमें आधा चम्मच गुड़ मिलाकर दिन में दो बार खाएँ। यह छींक की समस्या से राहत (sneezing remedy) दिलाता है।

Ginger Candy for Sneezing
@worldcreativities

दालचीनी का प्रयोग कर छींक का इलाज (Dalchini: Home Remedy for Sneezing in Hindi)

एक गिलास गरम पानी में एक चम्मच शहद और आधा चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर पिएँ। यह छींक से आराम (sneezing remedy) दिलाता है।

लगातार छींक आने पर हींग से फायदा (Hing:Home Remedies to Treat Sneezing in Hindi)

लगातार छींक आने पर थोड़ी-सी हींग लें। इसकी गंध को सूंघे। यह उपाय आपको बार-बार छींक आने की समस्या से राहत पहुंचाता है

बार-बार छींक आने पर पुदीना का प्रयोग (Peppermint: Home Remedy for Sneezing Problem in Hindi)

उबलते हुए पानी में पुदीने के तेल की कुछ बूंदे डाल दें। इसका भाप लें। यह उपाय छींक की समस्या में बहुत फायदा पहुंचाता है।

लगातार छींक आने पर अजवाइन से लाभ (Ajwain: Home Remedies for Sneezing Treatment in Hindi)

  • एक गिलास पानी में एक चम्मच अजवाइन डालकर उबालें। गुनगुना होने पर छान लें। इसमें शहद मिलाकर पिएँ।
  • 10 ग्राम अजवाइन और 40 ग्राम पुराने गुड़ को 450 मि.ली. पानी में उबालें। जब आधा पानी रह जाए, तो पानी को ठण्डा होने पर पी लें। इसके बाद हवारहित स्थान पर आराम करें।
Ajwain Benefits for Sneezing home remedies
@worldcreativities

हल्दी के सेवन से छींक का इलाज (Turmeric: Home Remedy for Sneezing in Hindi)

हल्दी में एलर्जी से राहत दिलाने की क्षमता होती है। भोजन में हल्दी का प्रयोग अवश्य करें। इसके साथ ही दूध में हल्दी डालकर पिएँ। छींक के इलाज हल्दी बहुत फायदेमंद तरीके से काम करते हैं।

छींक की समस्या में मुलेठी से फायदा (Mulethi: Home Remedies for Sneezing Treatment in Hindi)

मुलेठी के चूर्ण को पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। इसका भाप लें। मुलेठी का प्रयोग छींक की परेशानी में लाभदायक साबित होती है।

लगातार छींक आने पर यूकेलिप्टस का प्रयोग लाभदायक (Eucalyptus: Home Remedy for Sneezing Treatment in Hindi)

उबलते हुए पानी में यूकेलिप्टस के तेल की कुछ बूंदे डालकर भाप लें। इससे छींक आने और बंद नाक की समस्या में काफी आराम मिलता है।

बार-बार छींक आने पर नींबू का उपाय फायदेमंद (Lemon: Home Remedies to Treat Sneezing  in Hindi)

एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद और आधा नींबू का रस मिलाकर पिएँ। यह उपाय लगातार छींक आने की समस्या में लाभ पहुंचाता है।

lemon benefits
@worldcreativities

छींक आने से परेशान है तो करें लहसुन का प्रयोग (Garlic: Home Remedy for Sneezing in Hindi)

लहसुन की 3-4 कली को पीसकर एक गिलास पानी में उबालें। इस पानी को छानकर गुनगुना करके दिन में दो बार पिएँ।

छींक रोकने के घरेलू उपाय में मेथी का इस्तेमाल (Methi: Home Remedies for Sneezing in Hindi)

दो चम्मच मेथी के बीज को पीसकर पानी में उबालें। गुनगुना होने पर इसे पी लें। दिन में दो बार इसका सेवन करने से आराम मिलता है।

छींक को रोकने के लिए सौंफ का इस्तेमाल (Saunf: Home Remedies to Stop Sneezing in Hindi)

  • छींक रोकने के उपाय में से सौंफ चाय फायदेमंद (cheek rokne ke upay) साबित हो सकता है।
  • एक कप पानी में एक चम्मच सौंफ डालकर उबालें, और गरम-गरम ही पिएँ।

छींक रोकने के घरेलू उपाय में सरसों के तेल का उपयोग (Mustard Oil: Home Remedy to Stop Sneezing Problem in Hindi)

सरसों का तेल नाक में 2-3 बूंद डालें। तेल को ऊपर की ओर खींचें। इससे छींक आनी बन्द हो जाती है। यह बहुत कारगर उपाय है।

लगातार छींक आने की समस्या से निजात के लिए संतरे का उपयोग (Orange: Home Remedies to Stop Sneezing in Hindi)

रोज दिन के भोजन के बाद एक गिलास संतरे का जूस पिएँ। इससे छींक और जुकाम से राहत मिलती है। संतरे में विटामिन-सी होता है, जो रोगों से लड़ने में मदद करता है।

Orange for Sneezing home remedies
@worldcreativities

बार-बार छींक आने की समस्या के लिए अन्य घरेलू उपचार (Other Home Remedies for Sneezing in Hindi)

ये अन्य घरेलू उपचार भी छींक की परेशानी में बहुत फायदेमंद होते हैंः-

  • लागातार छींक आने पर पान के पत्ते का रस निकालें। एक चम्मच की मात्रा में दिन में तीन बार पिएँ।
  • बार-बार छींक आने पर रूईं में 2-3 बूंद लैवेंडर का तेल लगाकर सूंघें। इससे छींक से राहत मिलती है।
  • छींक को रोकने के लिए एक चावल के दाने के बराबर कपूर को बताशे, या चीनी के साथ खाएँ। खाने के बाद पानी पी लीजिए।
  • छींक को रोकने के लिए एक बर्तन में पानी लें, उसमें पिपरमिंट के तेल की कुछ बूँद डालें। इसके बाद कपड़े से अपने सिर ढककर साँस लें। इससे छींक आने की समस्या में आराम मिलता है।

इम्यूनिटी बढ़ाकर पाएं छींक की समस्या से आराम (Boost Immunity to get rid of Sneezing in Hindi)

बार-बार छींक आने की समस्या आमतौर पर सर्दी-जुकाम होने पर ही होती है. अपनी इम्यूनिटी को बढाकर आप बार- बार होने वाले सर्दी-जुकाम से बच सकते है। इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आप कई सारे घरेलू उपाय अपना सकते हैं जैसे कि तुलसी के काढ़े का सेवन, मौसमी फलों का सेवन आदि। इनके सेवन से सर्दी-जुकाम में आराम मिलता है और छींक आने की समस्या दूर हो जाती है।

छींक की समस्या दूर करने के लिए पिएं गर्म पानी (Drink Hot water to stop Sneezing in Hindi)

गर्म पानी का सेवन भी सर्दी-जुकाम की समस्या में आराम देता है। सर्दी-जुकाम होने पर नियमित रूप से थोड़ी-थोड़ी मात्रा में गर्म पानी का सेवन करते रहें. गर्म पानी  कफ को जमने से रोकता है और इससे सर्दी के अन्य लक्षणों जैसे कि बार-बार छींक आना, बंद नाक आदि से आराम मिलता है।

hot water Benefits
@worldcreativities

यूकेलिप्टस के तेल से पाएं बार-बार छींक की समस्या से आराम (Eucalyptus Oil gives relief from Frequent Sneezing Problem in Hindi)

यूकेलिप्टस का तेल सर्दी जुकाम की समस्या से आराम पाने का एक अचूक उपाय है। यूकेलिप्टस के तेल को किसी अन्य तेल के साथ मिलाकर मसाज करने में या फिर पानी की भाप में यूकेलिप्टस का तेल डाल कर भाप लेने से सर्दी-जुकाम में आराम मिलता है। अगर आपको सर्दी-जुकाम की वजह से बार-बार छींकें आ रही हैं तो यूकेलिप्टस के तेल का उपयोग करें। 

छींक की समस्या से आराम पाने के लिए करें कैमोमाइल चाय का सेवन (Drink Chamomile tea to get relief from sneezing problem in Hindi)

कैमोमाइल चाय का सेवन छींक आने (स्नीजिंग) की समस्या में फायदा पहुंचाता है क्योंकि कैमोमाइल चाय में एंटीएलर्जिक गुण पाया जाता है।  अगर छींक की समस्या किसी एलर्जी के कारण हो  वाली स्नीजिंग को रोकने में मदद करती है।

छींक से राहत पाने या बचने के उपाय (Prevention Tips to Get Relief from Sneezing in Hindi)

छींक से होने के दौरान या होने से बचने के लिए अपने खान-पान और जीवनशैली में थोड़ा बदलाव लाने पर इस परेशानी से कुछ हद तक बचा जा सकता है।

खान-पान ( Diet during Sneezing)

छींक की समस्या के दौरान आपका खानपान ऐसा होना चाहिएः-

  • ताजे फल एवं सब्जियों का अधिक से अधिक प्रयोग करें।
  • मौसमी फलों का सेवन करें।

छींक की समस्या के दौरान आपकी जीवनशैली ( Lifestyle during Sneezing)

छींक की समस्या के दौरान आपकी जीवनशैली ऐसी होनी चाहिएः-

  • भोजन करने से पहले, और कहीं बाहर से आने पर सबसे पहले हाथों को अच्छी प्रकार धोएँ।
  • धूल एवं धुएँ वाले स्थानों पर मास्क लगाकर जाएँ।
  • सुबह नियमित रूप से प्राणायाम करें। विशेषकर अनुलोम-विलोम एवं कपालभाँति रोजाना आधा-आधा घण्टा करें। इससे एलर्जिक अवस्थाओं में विशेष लाभ मिलता है।

 छींक दौरान परहेज (Avoid during Sneezing)

  • एलर्जी पैदा करने वाले खाद्य पदार्थों से दूर रहें। इसलिए ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें।
  • ठण्डे और जमे हुए खाद्य पदार्थ, बासी, रेफ्रिजरेटेड, पास्ता, मूंगफली आदि का सेवन बिल्कुल ना करें। यह एलर्जी कारक होते हैं।
  • ठण्डी और गर्म चीजों का एक साथ सेवन ना करें।
  • तीव्र गंध वाले परफ्यूम एवं सैनिटाइजर प्रयोग ना करें।
  • जंकफूड़ ना खाएं
  • बाहर की गर्मी वाले वातावरण से आकर एकदम से पंखे या ए.सी में नहीं बैठें। ठण्डे पानी से नहीं नहाना चाहिए।

छींक की परेशानी से संबंधित सवाल-जवाब (FAQ Related Sneezing)

छींक कब आती है?

छींक ज्यादातर सर्दी या जुकाम होने पर होती है।  इसका मुख्य कारण वात एवं कफ विकार होता है। इसके साथ ही शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी और संवेदनशीलता के कारण भी छींक की समस्या देखी जाती है।

छींक क्यों आती है?

नाक के भीतर की संवेदनशील म्यूकस झिल्ली बाहरी धूल के कणों और तीव्र गंध से उत्तेजित हो जाती है, जिस कारण छींक आती है।

छींक की समस्या को बीमारी कब समझना चाहिए?

यदि छींक दो से चार बार हो जाए तो इसमें कोई गम्भीर स्थिति नहीं है। कभी-कभी लगातार छींक के कारण सिर दर्द होने लगता है। यदि अधिक देर तक या बार-बार छींक आने लगे तो उपचार की विशेष जरूरत होती है क्योंकि यह किसी रोग का संकेत भी हो सकती है।

यदि छींक बार-बार या लगातार आ रही हो, तो सर्दी या वायरल संक्रमण का संकेत हो सकता है। ऐसे में लापरवाही करने से रोग और अधिक बढ़ सकता है। ऐसे में तुरन्त डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

सोते हुए अवस्था में छींक क्यों नहीं आती है?

छींकते समय पूरे शरीर में एक कंपन-सा होता है। आँखें बन्द हो जाती हैं। सोते समय हमारे शरीर की नसें आराम की अवस्था में होती हैं, इसलिए सोते समय छींक नहीं आती। 

To earn free $ credits, share the link below with your friends, family, and website visitors
click this link.
https://wordpress.com/refer-a-friend/P3nPGEVt667ek38wkQAv/
And Follow my site https://widgets.wp.com/follow/index.html# to Best Tips And Solutions.
Join Facebook Group (और भी लेटेस्ट पोस्ट के लिए हमारे फेसबुक ग्रुप को जरूर ज्वाइन करे)
फ्री आयुर्वेदिक हेल्थ टिप्स ग्रुप में शामिल होने के लिए इस #ग्रुप को #join करने के लिए नीचे दिए गए #लिंक पर क्लिक करें और भी बहुत सारी बातो ओर जानकारियों के लिए नीचे तुरंत देखे बहुत ही रोचक जानारियां नीचे दी हुई है
💋💋💋💋💋💋💋💋💕💕💕💕💕💕💕💕🌾🌾🌾🌾🌾🌾🍃🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🕉🕉🕉🕉🕉😍😍😍🌹🌹
https://www.facebook.com/groups/614541922549349/?ref=share
🕉अगर आप 🌄महादेव के सच्चे 💯भक्त हैं तो इस ग्रुप को ज्यादा से ज्यादा💐 लोगों को #शेयर करें और अपने #फ्रेंड्स को #इन्वाइट करे जिससे कि ये ग्रुप #महादेव का सबसे #बड़ा ग्रुप 🌺बन सकें#ज्यादा से ज्यादा शेयर जरुर करे#🙏#JaiMahadev 🕉#jaimahakaal🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉
https://www.facebook.com/groups/765850477600721/?ref=share
🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉
जो लोग relationship में है या होना चाहते है तो इन पेज को लाइक और शेयर जरुर करें 💕💕
https://www.facebook.com/relationshlovezgoals/
https://www.facebook.com/Relationship-love-goals-105353711339414/
https://www.facebook.com/belvojob/
हमारे #धार्मिक और #सांस्कृतिक और #प्राचीन #सस्कृति के लिए फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करे💁👇👇👇
Friends company को ज्वाइन करें और अपने मन पसंद दोस्तो से बात करे 👇👇👇🌸🌼💋
https://www.facebook.com/groups/1523649131190516/?ref=share
Jai Durga maa ऐसे ही धार्मिक और सांस्कृतिक आध्यात्मिक भक्ति और जानकारियों के लिए
नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी दोस्तों को इन्वाइट करें 💐🙏👇👇
https://www.facebook.com/groups/388102899240984/?ref=share
I&S Buildtech Pvt Ltd किसी को कही प्रॉपर्टी खरीदनी और बेचनी हो तो इस ग्रुप को ज्वाइन करें,👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/790189985072308/?ref=share
Best health tips men’s and women’s हैल्थ टिप्स एक्सरसाइज टिप्स फिटनेस
टिप्स वेट लॉस टिप्स ऐसी ही ढेर सारी जानारियां देखने और समझने के लिए इस ग्रुप को ज्वाइन करें 👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/351694099217895/?ref=share
Vedgyan🌲💐🌺🌻🌼🌸🌲🌲🌿🍃🌾🌾🍁🍂🌴🌳🌲🍀🌵🏜️👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/624604661500577/?ref=share
Relationship love goals 💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕👇👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/774627156647519/?ref=share
Belvo jobs groups जिनके पास जॉब नहीं है जॉबलेस हैं उनके लिए ये ग्रुप बेहद एहम है
नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी फ्रेंड्स और दोस्तों को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें 👇👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/694117461150454/?ref=share
Blue diamonds group इस ग्रुप में आपको वीडियो स्टेटस मिलेगा ३० सेकंड का
वह आप what’s app status पर और fb status prr lga skte h #join करने के
लिए नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें👇👇👇👇👇👇👇😍😍💋💋💋
https://www.facebook.com/groups/4326320604105617/?ref=share
Prachin chanakya niti प्राचीन चाणक्य नीति की जानकारियों के लिए नीचे दिए हुए
लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी फ्रेंड्स को इन्वाइट जरूर करें 🌲👇👇👇👇🕉 🕉
https://www.facebook.com/groups/369329114441951/?ref=share
Mujhse Dosti karoge bolo जो लोग अकेले है और बात करना चाहते है
तो ये ग्रुप ज्वाइन करे 👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/780080659505186/?ref=share
Only truly lovers जो सच्चा प्यार करते है अपने लवर को वही ज्वाइन करे 👇👇
https://www.facebook.com/groups/225480217568019/?ref=share
किर्प्या इन सब फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करे और हमारे नई उप्लोडेड हेल्थ टिप्स को पढ़े
और ज्यादा से ज्यादा लोगो को शेयर अवस्य करे धन्यवाद्

One thought on “बार-बार छींक आने पर अपनाएं ये आयुर्वेदिक घरेलू उपाय (Ayurvedic Home Remedies for Sneezing)

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s