कई रोगों की रामबाण दवा है गुलाब


Rose is the panacea for many diseases – http://www.worldcreativities.com

गुलाब का नाम सुनते ही होंठो पर एक हल्की  मुस्कान आ जाती है, हैं न। गुलाब एक ऐसा फूल है जिसका पौधा कंटीला होने के बावजूद  फूल इतना मनमोहक होता है कि सबका दिल महक और सुंदरता से मोह लेता है। इसके मुग्ध रूप के अलावा औषधीय गुण भी अनगिनत हैं। आयुर्वेद में  गुलाब का इस्तेमाल कई बीमारियों के लिए इलाज के रूप में प्रयोग किया जाता है। चलिये इसके बारे में आगे विस्तार से जानते हैं।

गुलाब क्या है? (What is Gulab in Hindi?)

गुलाब बहुवर्षीय, झाड़ीदार, कंटीला, पुष्पीय सुगंधित पौधा होता है। इसका आँख, कान, तरह-तरह के चर्म रोग, बुखार के इलाज में आम तौर पर इस्तेमाल किया हाता है। गुलाब देखने में सुंदर होने के बावजूद, विशेष रूप से बिच्छु और साँप के विष के प्रभाव को कम करने में असरदार तरीके से काम करता है। 

फूल के रंगों के आधार पर इसकी कई प्रजातियां होती हैं। इसके फूलों से गुलकन्द तथा कई प्रकार के सुगन्धित इत्र बनाए जाते हैं।

अन्य भाषाओं में गुलाब के नाम (Names of Gulab in Different Languages)

गुलाब का वानास्पतिक नाम Rosa centifolia Linn.(रोजा सेन्टिफोलिया) Syn-Rosa gallica var. Centifolia Regel होता है। इसका कुल  Rosaceae (रोजेसी) होता है और इसको अंग्रेजी में Rose (रोज) कहते हैं। चलिये अब जानते हैं कि गुलाब और किन-किन नामों से जाना जाता है। 

  • Sanskrit-तरुणी, देवतरुणी, शतपत्री, कर्णिका, चारुकेशरा, गन्धाढ्या, महाकुमारी, लाक्षापुष्पा; 
  • Hindi-गुलाब
  • Kannada-गुलाबि (Gulabi);
  • Gujrati-गुलाब (Gulab); 
  • Tamil-इरोजा (Irosa), रोजा (Roja), गोलप्पु (Golappu); 

गुलाब के औषधीय गुण (Medicinal Properties of Rose in Hindi)

गुलाब किन-किन बीमारियों के लिए प्रयोग में लाया जाता है, ये जानने के पहले इसके औषधीय गुणों के बारे में जान लेना ज़रूरी होता है।

गुलाब मधुर, कड़वा, तीखा, शीतल, लघु, चिकना, वातपित्त कम करने वाला, लिबिडो, हृदय संबंधी बीमारी, पौष्टिकता सोखने का गुण, रुचिकारक, खाना पचाने में सहायक, आँखों के लिए फायदेमंद, शुक्रल (Spermatic), दीपन (Stomachic), वर्ण्य (colouration) तथा रसायन (Rejuvinating) गुण से भरपूर होता है।

यह मुख संबंधी रोग, रक्तपित्त (नाक-कान से खून बहने की बीमारी), दाह या जलन, तृष्णा या प्यास लगने का रोग, विष, छर्दि या उल्टी तथा रक्तातिसारनाशक या दस्त से खून निकलने जैसे बीमारियों के इलाज में लाभदायक होता है।

गुलाब के फूल शीतल, वर्ण्य, वातपित्त कम करने वाला, विदाह नाशक या जलने की अनुभूति कम करने में सहायक, कास या खांसी, श्वसनिकाशोथ (Bronchitis), व्रण या अल्सर (घाव), श्वास दौर्गन्ध्य (सांस की बदबू), अजीर्ण या बदहजमी, आध्मान या पेट फूलना, उदरशूल या पेट में दर्द, त्वक् रोग या चर्म रोग, हृदय रोग, ज्वर, विसर्प या हर्पिज, अर्श या बवासीर तथा सामान्य दौर्बल्य या कमजोरी में लाभप्रद होते हैं।

गुलाब का अर्क सर; शीत; पूयरोधी या एंटीसेप्टिक, सुंधित (Fragrant), श्रम या मेहनत, दाह या जलन, तृष्णा, पित्तज रोग तथा मुखरोग से राहत दिलाने में फायदेमंद होता है।  

गुलाब के फायदे और उपयोग (Uses and Benefits of Rose in Hindi) 

गुलाब के फूल महक और देखने में जितने अच्छे होते हैं उतने ही बीमारियों के इलाज में असरदार तरीके से काम करते है, लेकिन ये किस-किस बीमारियों के इलाज में कैसे उपयोग में लाये जाते हैं, इसके बारे में जानने के लिए अच्छी तरह से जानकारी लेने की ज़रूरत होती है।

मुँह संबंधी रोगों से निजात दिलाने में लाभकारी गुलाब (Gulab Beneficial to Treat Mouth Related Diseases in Hindi)

गुलाब के फूलों का हिम बनाकर गरारा करने से मुँह के सूजन, सांस की बदबू, तथा गले के दर्द के इलाज में मदद मिलती है। इसके अलावा गुलाब के पत्तों को चबाने से भी मुँह और होंठों की सूजन कम होती है।

सिर में होने वाले घाव को ठीक करने में सहायक गुलाब (Gulab Beneficial to Treat Boil on Head in Hindi)

गुलाब के पत्तों को पीसकर लेप करने से सिर में होने वाले घाव, नेत्राभिष्यन्द या केटेरेक्ट (मोतियाबिंद) , दंतरोग तथा अर्श या पाइल्स में लाभ पहुँचाता है।

पलको की सूजन कम करने में सहायक है गुलाब (Benefit of Gulab to Get Relief from the Inflammation of Eyelid in Hindi)

गुलाब के फूलों को पीसकर लगाने से पलकों की सूजन कम होने लगती है। इसके अलावा दांत पर मलने से दांत संबंधी रोगों से निजात पाने में मदद मिलती है। इसके अलावा गुलाब के अर्क को 2-2 बूंद आंखों में डालने से आँखों के बीमारी से राहत दिलाने में बहुत फायदेमंद होता है।

ट्यूबरक्लोसिस (टीबी) के इलाज में फायदेमंद गुलाब (Benefit of Rose to Treat Tuberculosis in Hindi)

गुलाब के फूलों का प्रयोग फेफड़ों की बीमारी, टी.बी. की चिकित्सा में किया जाता है। इससे इस रोग के इलाज में मदद मिलती है। 

उदावर्त या पेट संबंधी रोग में फायदेमंद गुलाब (Rose Beneficial to Treat Stomach Disease in Hindi)

2-4 ग्राम गुलाब फूल के चूर्ण को शहद के साथ सेवन करने से कब्ज, उदावर्त तथा अतिसार या दस्त में लाभ होता है।

गुदाशोथ के इलाज में लाभकारी गुलाब (Benefit of Gulab to Treat Anorectal Diseases in Hindi)

गुलाब के फूलों के तेल में पकाकर, छानकर, तेल को गुदा पर लगाने से गुदा की सूजन कम हो जाती है।

यकृत रोग के इलाज में फायदेमंद गुलाब (Gulab Beneficial to Treat Liver Diseases in Hindi)

लाल गुलाब के फूलों का प्रयोग रक्तज-विकार तथा यकृत् से संबंधित बीमारियों की चिकित्सा में किया जाता है।

प्रदर या ल्यूकोरिया से राहत दिलाने में लाभकारी गुलाब (Gulab Beneficial to Treat Leucorrhoea in Hindi)

गुलाब के फूलों को पीसकर योनि में लगाने से प्रदर में लाभ होता है तथा फूल और जड़ो को पीसकर व्रण या घाव पर लगाने से घाव जल्दी भर जाता है।

कुष्ठ के इलाज में लाभकारी गुलाब (Benefit of Gulab to Treat Leprosy in Hindi)

गुलाब के फूल कई रंग के होते हैं, उसमें सफेद रंग का फूल कुष्ठ के इलाज में काम आता है। सफेद गुलाब के पुष्पों को पीसकर लगाने से कुष्ठ तथा अन्य पित्तज विकार नष्ट होते हैं।

चेचक के इलाज में फायदेमंद गुलाब (Gulab Beneficial to Treat Pox in Hindi)

गुलाब के फूलों को सुखाकर चूर्ण या पाउडर की तरह बनाकर चेचक से पीड़ित व्यक्ति के बिस्तर पर डालने से चेचक के व्रण या घाव जल्दी सूख जाते हैं।

घाव को ठीक करने में सहायक गुलाब (Benefit of Gulab to Get Relief from Wound in Hindi)

गुलाब के फलों को पीसकर घाव के ऊपर डालने से घाव से बहता हुआ खून कम होने लगता है और घाव जल्दी सूखने लगता है।

बुखार से राहत दिलाने में असरदार गुलाब (Gulab Beneficial to Treat Fever in Hindi)

अगर बुखार कम होने का नाम नहीं ले रहा है तो गुलाब से बने गुलकन्द का सेवन करने से पित्त ज्वर में लाभ होता है।

शीतपित्त के इलाज में सहायक गुलाब (Benefit of Gulab to Treat Urticaria in Hindi)

15-25 ग्राम गुलकन्द में 2 ग्राम सौंफ चूर्ण तथा 10 मिली सिरका मिलाकर सुबह शाम दो बार खिलाने से शीतपित्त में लाभ होता है।

बिच्छु के विष के असर को कम करने में सहायक गुलाब (Gulab Beneficial to Treat Poison of Scorpion in Hindi)

लाल गुलाब के फूलों को पीसकर दंश स्थान पर लगाने से वृश्चिक दंश जन्य वेदना तथा सूजन से राहत मिलती है।

सांप के विष को कम करने में सहायक गुलाब (Gulab Beneficial to Treat Poison of Snake in Hindi)

गुलाब की जड़ को पीसकर सर्पदंश स्थान पर लगाने से दंश के कारण होने वाली वेदना (पीड़ा), दाह (जलन) तथा शोथ (सूजन) में लाभ होता है।

गुलाब के उपयोगी भाग (Useful Parts of Gulab)

आयुर्वेद के अनुसार गुलाब का औषधीय गुण इसके इन भागों को प्रयोग करने पर सबसे ज्यादा मिलता है-

-पत्ता

-जड़

-फूल

गुलाब का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए (How to Use Gulab in Hindi)

यदि आप किसी ख़ास बीमारी के घरेलू इलाज के लिए गुलाब का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह के अनुसार ही इसका उपयोग करें। चिकित्सक के सलाह के अनुसार 3-6 ग्राम चूर्ण, 20-40 मिली (गुलाब अर्क) अर्क, 10-20 ग्राम गुलकंद (गुलाब की पंखुड़ी से बने) ले सकते हैं।

गुलाब कहां पाया या उगाया जाता है (Where is Gulab Found or Grown in Hindi)

गुलाब का जड़ उत्पत्तिस्थान सीरिया तथा ईरान है। यद्यपि यह भारत में भी लगभग सभी बाग-बागिचों में तथा घरों में लगाया जाता है। इसके अतिरिक्त पूरे भारत में मुख्यत उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश तथा गुजरात में इसकी खेती की जाती है। 

Join Facebook Group (और भी लेटेस्ट पोस्ट के लिए हमारे फेसबुक ग्रुप को जरूर ज्वाइन करे)
फ्री आयुर्वेदिक हेल्थ टिप्स ग्रुप में शामिल होने के लिए इस #ग्रुप को #join करने के लिए नीचे दिए गए #लिंक पर क्लिक करें और भी बहुत सारी बातो ओर जानकारियों के लिए नीचे तुरंत देखे बहुत ही रोचक जानारियां नीचे दी हुई है
💋💋💋💋💋💋💋💋💕💕💕💕💕💕💕💕🌾🌾🌾🌾🌾🌾🍃🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🕉🕉🕉🕉🕉😍😍😍🌹🌹
https://www.facebook.com/groups/614541922549349/?ref=share
🕉अगर आप 🌄महादेव के सच्चे 💯भक्त हैं तो इस ग्रुप को ज्यादा से ज्यादा💐 लोगों को #शेयर करें और अपने #फ्रेंड्स को #इन्वाइट करे जिससे कि ये ग्रुप #महादेव का सबसे #बड़ा ग्रुप 🌺बन सकें#ज्यादा से ज्यादा शेयर जरुर करे#🙏#JaiMahadev 🕉#jaimahakaal🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉
https://www.facebook.com/groups/765850477600721/?ref=share
🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉
जो लोग relationship में है या होना चाहते है तो इन पेज को लाइक और शेयर जरुर करें 💕💕
https://www.facebook.com/relationshlovezgoals/
https://www.facebook.com/Relationship-love-goals-105353711339414/
https://www.facebook.com/belvojob/
हमारे #धार्मिक और #सांस्कृतिक और #प्राचीन #सस्कृति के लिए फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करे💁👇👇👇
Friends company को ज्वाइन करें और अपने मन पसंद दोस्तो से बात करे 👇👇👇🌸🌼💋
https://www.facebook.com/groups/1523649131190516/?ref=share
Jai Durga maa ऐसे ही धार्मिक और सांस्कृतिक आध्यात्मिक भक्ति और जानकारियों के लिए
नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी दोस्तों को इन्वाइट करें 💐🙏👇👇
https://www.facebook.com/groups/388102899240984/?ref=share
I&S Buildtech Pvt Ltd किसी को कही प्रॉपर्टी खरीदनी और बेचनी हो तो इस ग्रुप को ज्वाइन करें,👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/790189985072308/?ref=share
Best health tips men’s and women’s हैल्थ टिप्स एक्सरसाइज टिप्स फिटनेस
टिप्स वेट लॉस टिप्स ऐसी ही ढेर सारी जानारियां देखने और समझने के लिए इस ग्रुप को ज्वाइन करें 👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/351694099217895/?ref=share
Vedgyan🌲💐🌺🌻🌼🌸🌲🌲🌿🍃🌾🌾🍁🍂🌴🌳🌲🍀🌵🏜️👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/624604661500577/?ref=share
Relationship love goals 💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕👇👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/774627156647519/?ref=share
Belvo jobs groups जिनके पास जॉब नहीं है जॉबलेस हैं उनके लिए ये ग्रुप बेहद एहम है
नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी फ्रेंड्स और दोस्तों को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें 👇👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/694117461150454/?ref=share
Blue diamonds group इस ग्रुप में आपको वीडियो स्टेटस मिलेगा ३० सेकंड का
वह आप what’s app status पर और fb status prr lga skte h #join करने के
लिए नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें👇👇👇👇👇👇👇😍😍💋💋💋
https://www.facebook.com/groups/4326320604105617/?ref=share
Prachin chanakya niti प्राचीन चाणक्य नीति की जानकारियों के लिए नीचे दिए हुए
लिंक पर क्लिक करें और अपने सभी फ्रेंड्स को इन्वाइट जरूर करें 🌲👇👇👇👇🕉 🕉
https://www.facebook.com/groups/369329114441951/?ref=share
Mujhse Dosti karoge bolo जो लोग अकेले है और बात करना चाहते है
तो ये ग्रुप ज्वाइन करे 👇👇👇
https://www.facebook.com/groups/780080659505186/?ref=share
Only truly lovers जो सच्चा प्यार करते है अपने लवर को वही ज्वाइन करे 👇👇
https://www.facebook.com/groups/225480217568019/?ref=share
किर्प्या इन सब फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करे और हमारे नई उप्लोडेड हेल्थ टिप्स को पढ़े
और ज्यादा से ज्यादा लोगो को शेयर अवस्य करे धन्यवाद्

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s